Category Archives: poet name S

बुरियां बुरियां बुरियां वे

बुरियां बुरियां बुरियां वे, असीं बुरियां वे लोका ।बुरियां कोल न बहु वे । तीरां ते तलवारां कोलों, तिक्खियां बिरहुं दियां छुरियां वे लोका ।1। लडि सज्जन परदेस सिधाणे, असीं…

दरद विछोड़े दा हाल

दरद विछोड़े दा हाल, नी मैं कैनूं आखां । सूलां मार दीवानी कीती, बिरहुं पया साडे ख़्याल, नी मैं कैनूं आखां । सूलां दी रोटी दुखां दा लावण, हड्डां दा…

डेख न मैंडे अवगुन डाहूं

डेख न मैंडे अवगुन डाहूं, तेरा नामु सत्तारी दा । तूं सुलतान सभो किछु सरदा, मालम है तैनूं हाल जिगर दा, तउ कोलों कछु नाहीं पड़दा, फोलि न ऐब विचारी…

दिल दरदां कीती पूरी

दिल दरदां कीती पूरी, दिल दरदां कीती पूरी ।। लखि करोड़ जेहनां दे जड़्या, सो भी झूरी झूरी ।1। भट्ठि पई तेरी चिट्टी चादर, चंगी फ़कीरां दी भूरी ।2। साधि…

दिन चारि चउगान मैं खेल, खड़ी

दिन चारि चउगान मैं खेल, खड़ी, देखां कउन जीतै बाजी कउन हारै । घोड़ा कउन का चाकि चालाकि चाले, देखां हाथि हिंमति करि कउन डारै ।। इसु जीउ परि बाजिया…

रुबाइयाँ shah hussain

1 आईना जो हाथ उस के ने ता-देर लिया इस देर से ख़जलत ने हमें घेर लिया जब हम ने कहा क्या यही आशिक़ है मियाँ ये सुनते ही आईने…

चन्दीं हजार आलमु तूं केहड़ियां कुड़े

चन्दीं हजार आलमु तूं केहड़ियां कुड़े । चरेंदी आई लेलड़े, तुमेंदी उन्न कुड़े ।।उच्ची घाटी चढ़द्यां, तेरे कंडे पैर पुड़े । तैं जेहा मैं कोई न डिट्ठा, अग्गे होइ मुड़े…

चरखा मेरा रंगलड़ा रंग लालु

चरखा मेरा रंगलड़ा रंग लालु ।। जेवडु चरखा तेवडु मुन्ने, हुन कह गया, बारां पुन्ने, साईं कारन लोइन रुन्ने, रोइ वंञायआ हालु ।1। जेवडु चरखा तेवडु घुमायण, सभे आईआं सीस…

अमलां दे उपरि होग नबेड़ा

अमलां दे उपरि होग नबेड़ा, क्या सूफी क्या भंगी ।। जो रब्ब भावै सोई थीसी, साई बात है चंगी ।1। आपै एक अनेक कहावै, साहब है बहुरंगी ।2। कहै हुसैन…

असां बहुड़ि ना दुनियां आवना

असां बहुड़ि ना दुनियां आवना ।। सदा ना फलनि तोरियां सदा ना लगिदे नी सावना ।1। सोई कंमु विचारि के कीजीऐ जी, जां ते अंतु नहीं पछुतावना ।2। कहै शाह…

बाझूं सज्जनु मैनूं होरु नहीं सुझदा

बाझूं सज्जनु मैनूं होरु नहीं सुझदा । बाझूं सज्जनु मैनूं होरु नहीं सुझदा ।। मन तनूर आंही दे अलम्बे, सेज चढ़ीदा मैंडा तन मन भुजदा ।1। तन दियां तन जाणे,…

बन्दे आप नूं पछान

बन्दे आप नूं पछान । जे तैं आपदा आपु पछाता, साईं दा मिलन असानु ।। सोइने दे कोटु रुपहरी छज्जे, हरि बिनु जानि मसानु ।1। तेरे सिर ते जमु साजश…