Category Archives: Bulleh shah

अब लगन लगी किह करिए ?

अब लगन लगी किह करिए ? ना जी सकीए ते ना मरीए । तुम सुनो हमारी बैना, मोहे रात दिने नहीं चैना, हुन पी बिन पलक ना सरीए । अब…

अब क्यों साजन चिर लायो रे ?

अब क्यों साजन चिर लायो रे ? ऐसी आई मन में काई, दुख सुख सभ वंजाययो रे, हार शिंगार को आग लगाउं, घट उप्पर ढांड मचाययो रे ; अब क्यों…

ऐसा जगिआ ज्ञान पलीता ।

ऐसा जगिआ ज्ञान पलीता । ना हम हिन्दू ना तुर्क ज़रूरी, नाम इश्क दी है मनज़ूरी, आशक ने वर जीता, ऐसा जग्या ज्ञान पलीता । वेखो ठग्गां शोर मचाइआ, जंमना…

आयो सईयो रल दियो नी वधाई ।

आयो सईयो रल दियो नी वधाई । मैं वर पाइआ रांझा माही । अज्ज तां रोज़ मुबारक चढ़आ, रांझा साडे वेहड़े वड़्या, हत्थ खूंडी मोढे कम्बल धरिआ, चाकां वाली शकल…

अक्खां विच दिल जानी प्यारिआ,

  अक्खां विच दिल जानी प्यारिआ, केही चेटक लाइआ ई । मैं तेरे विच जर्रा ना जुदाई, साथों आप छुपाइआ ई । मझीं आईआं रांझा यार ना आया, फूक बिरहों…

अलफ़ अल्लाह नाल रत्ता दिल मेरा,

  अलफ़ अल्लाह नाल रत्ता दिल मेरा, मैनूं ‘बे’ दी ख़बर ना काई । ‘बे’ पढ़दियां मैनूं समझ ना आवे, लज्जत अलफ़ दी आई । ‘ऐना ते गैना’ नूं समझ…