Category Archives: Faiz Ahmad Faiz

घट्ट हो पर तुच्छ ना समझो

  सिर विदवान पती हिलावे दुक्ख विच व्याकुल हो के, कवी, लेखक संताप भोगदे दिल विच दर्द संजोके । दुक्ख इन्हां नूं इहीयो है कि कासपी तट तों हटदा जाए,…

 सागर नाल गल्लां

  ‘सागर मैनूं इह तां दस्स देह, क्युं तेरे जल खारे ?’ ‘क्युं जो लोकां दे मिले ने इस विच हंझू खारे ।’ ‘सागर मैनूं इह तां दस्स देह, किन…

 सागर दी सुणो

  सागर आपनी गल्ल कहे तुसीं धारी मौन रहो आपणियां खुशियां ते ना आपने दिल दा दर्द कहो । उह महां कवी दांते वी उस रात मूक सी रहन्दा, किते…

अग्ग

  पत्थर नाल पत्थर टकराओ-निकलेगी उन्हां विचों चिंग्याड़ी । दो चट्टानां नूं टकराओ-निकलेगी उन्हां विचों चिंग्याड़ी । तली नाल तली टकराओ-निकलेगी उन्हां विचों चिंग्याड़ी । शबद नाल शबद टकराओ-निकलेगी उन्हां…

खंजर अते कुमज़

  इक गभ्भरू दर्ररे दे पिछे रहन्दा सी परबत दे उत्ते अंजीर दा रुक्ख ते दूजा खंजर बस्स, इही सन उहदा कुल्ल ज़र । इक सी बक्करी उहदे कोल रोज़…

सारस

  कदे कदे लगदै उह सूरे, रत्ती भों तों जो मुड़ ना आए, मरे नहीं बण सारे सारस, उड्डे गगनीं, उन्हां खंभ फैलाए । उन्हां ही दिनां तों, बीते युग्ग…

तसादा दा कबरिसतान

  सफ़ेद कफ़न नाल, हनेरे विच ढक्के, प्यारे हमसाययो, कबरां विच हो दफ़न पए, तुसीं ओ नेड़े, फिर की घर ना परतोगे मुड़्या मैं घर, दूर दूर जा, किते किते…

हाजी-मुरात दा सिर

  वढ्ढ्या प्या सिर वेख रिहा हां लहू दियां नदियां वहन पईआं वढ्ढो, मारो दा शोर मच्चे किवें लोकी सोचन चैन दियां । तिक्खियां तेज़-धार तलवारां उच्चियां-उच्चियां लहरावण राहां टेढियां…

कैसपी दे कंढे ते

  बरफ-सफेद सागर दीयो लहरो दस्सो तां ज़रा किस बोली विच्च गल्ल करदियां, मैनूं दियो समझा । नाल चट्टानां तुसीं टकराके शोर मचायो एदां पिंड दी मंडी दे विच रौला…

पहाड़ी उकाब

  मेरी धरती ओतपोत है शकती शानो-शौकत नाल, तर्हां तर्हां दे पंछी प्यारे, जिन्हां दे मधुर तराने ने, उन्हां दे उत्ते उडदे रहन्दे पंछी देवत्यां वरगे, उह उकाब, जिन्हां दे…

 उकाब अते तारे नूं

  नदियां अते चटानां उप्पर उच्चा उड्डन वाले किहड़ै तेरा वंश उकाबा किस थां तों तूं आया ? ‘अनेकां तेरे पुत्त-पोतरे मातभूमी लई मर मिटे दिल उन्हां दा खंभ उन्हां…

किन्ने मूढ़ ने पानी नदी पहाड़ी दे

  किन्ने मूढ़ ने पानी नदी पहाड़ी दे नमीयों बिनां चटानां एथे तिड़कदियां, क्युं एने काहले उधर वहन्दे जांदे ओ, बिनां तुहाडे जित्थे लहरां मचलदियां ? बड़ी मुसीबत हैं तूं…