Tag Archives: sufi shayri

दुश्वार

हज़रते ईसा से पूछा किसी ने जो था हुशियार इस हस्ती में चीज़ कया है सबसे ज़्यादा दुश्वार बोले ईसा सबसे दुश्वार ग़ुस्सा ख़ुदा का है प्यारे कि जहन्नुम भी…

बुरियां बुरियां बुरियां वे

बुरियां बुरियां बुरियां वे, असीं बुरियां वे लोका ।बुरियां कोल न बहु वे । तीरां ते तलवारां कोलों, तिक्खियां बिरहुं दियां छुरियां वे लोका ।1। लडि सज्जन परदेस सिधाणे, असीं…

दरद विछोड़े दा हाल

दरद विछोड़े दा हाल, नी मैं कैनूं आखां । सूलां मार दीवानी कीती, बिरहुं पया साडे ख़्याल, नी मैं कैनूं आखां । सूलां दी रोटी दुखां दा लावण, हड्डां दा…

डेख न मैंडे अवगुन डाहूं

डेख न मैंडे अवगुन डाहूं, तेरा नामु सत्तारी दा । तूं सुलतान सभो किछु सरदा, मालम है तैनूं हाल जिगर दा, तउ कोलों कछु नाहीं पड़दा, फोलि न ऐब विचारी…

चन्दीं हजार आलमु तूं केहड़ियां कुड़े

चन्दीं हजार आलमु तूं केहड़ियां कुड़े । चरेंदी आई लेलड़े, तुमेंदी उन्न कुड़े ।।उच्ची घाटी चढ़द्यां, तेरे कंडे पैर पुड़े । तैं जेहा मैं कोई न डिट्ठा, अग्गे होइ मुड़े…

चरखा मेरा रंगलड़ा रंग लालु

चरखा मेरा रंगलड़ा रंग लालु ।। जेवडु चरखा तेवडु मुन्ने, हुन कह गया, बारां पुन्ने, साईं कारन लोइन रुन्ने, रोइ वंञायआ हालु ।1। जेवडु चरखा तेवडु घुमायण, सभे आईआं सीस…

अमलां दे उपरि होग नबेड़ा

अमलां दे उपरि होग नबेड़ा, क्या सूफी क्या भंगी ।। जो रब्ब भावै सोई थीसी, साई बात है चंगी ।1। आपै एक अनेक कहावै, साहब है बहुरंगी ।2। कहै हुसैन…

आगे नैं डूंघी

आगे नैं डूंघी, मैं कित गुन लंघसां पारि ।। राति अन्नेरी पंधि दुराडा, साथी नहीयों नालि ।1। नालि मलाह दे अणबनि होई, उह सचे मैं कूड़ि विगोई, कै दरि करीं…

आख़र पछोतावेंगी कुड़ीए

आख़र पछोतावेंगी कुड़ीए, उठि हुन ढोल मनाय लै नीं ।1।रहाउ। सूहे सावे लाल बाणे, करि लै कुड़ीए मन दे भाणे, इकु घड़ी शहु मूल न भाणे, जासनि रंग वटाय ।1।…

चोर करन नित्त चोरियां

चोर करन नित्त चोरियां, अमली नूं अमलां दियां घोड़ियां, कामी नूं चिंता काम दी, असां तलब सांईं दे नामु दी ।1। पातिशाहां नूं पातिशाहियां, शाहां नूं उगराहियां, मेहरां नूं पिंड…

आख नीं माए आख नीं

आख नीं माए आख नीं, मेरा हाल साईं अग्गे आखु नीं ।1। प्रेम दे धागे अंतरि लागे, सूलां सेती मास नीं ।1। निजु जणेदीए भोलीए माए, जन करि लाययो पापु…

चूहड़ी हां दरबार दी

चूहड़ी हां दरबार दी ।। ध्यान दी छज्जली ग्यान दा झाड़ू, काम करोध नित्त झाड़दी । काज़ी जाने सानूं हाकम, जाणे, साथे फारखती वेगार दी ।1। मल्ल जाने अर महता…