Tag Archives: spritual poetry

बुरियां बुरियां बुरियां वे

बुरियां बुरियां बुरियां वे, असीं बुरियां वे लोका ।बुरियां कोल न बहु वे । तीरां ते तलवारां कोलों, तिक्खियां बिरहुं दियां छुरियां वे लोका ।1। लडि सज्जन परदेस सिधाणे, असीं…

दिन चारि चउगान मैं खेल, खड़ी

दिन चारि चउगान मैं खेल, खड़ी, देखां कउन जीतै बाजी कउन हारै । घोड़ा कउन का चाकि चालाकि चाले, देखां हाथि हिंमति करि कउन डारै ।। इसु जीउ परि बाजिया…

चन्दीं हजार आलमु तूं केहड़ियां कुड़े

चन्दीं हजार आलमु तूं केहड़ियां कुड़े । चरेंदी आई लेलड़े, तुमेंदी उन्न कुड़े ।।उच्ची घाटी चढ़द्यां, तेरे कंडे पैर पुड़े । तैं जेहा मैं कोई न डिट्ठा, अग्गे होइ मुड़े…

चरखा मेरा रंगलड़ा रंग लालु

चरखा मेरा रंगलड़ा रंग लालु ।। जेवडु चरखा तेवडु मुन्ने, हुन कह गया, बारां पुन्ने, साईं कारन लोइन रुन्ने, रोइ वंञायआ हालु ।1। जेवडु चरखा तेवडु घुमायण, सभे आईआं सीस…

असां बहुड़ि ना दुनियां आवना

असां बहुड़ि ना दुनियां आवना ।। सदा ना फलनि तोरियां सदा ना लगिदे नी सावना ।1। सोई कंमु विचारि के कीजीऐ जी, जां ते अंतु नहीं पछुतावना ।2। कहै शाह…

बन्दे आप नूं पछान

बन्दे आप नूं पछान । जे तैं आपदा आपु पछाता, साईं दा मिलन असानु ।। सोइने दे कोटु रुपहरी छज्जे, हरि बिनु जानि मसानु ।1। तेरे सिर ते जमु साजश…