Tag Archives: shaam

उदासी आसमाँ है

उदासी आसमाँ है दिल मेरा कितना अकेला है परिंदा शाम के पुल पर बहुत ख़ामोश बैठा है मैं जब सो जाऊं इन आँखों पे अपने होंठ रख देना यकीं आ…

दालानों की धूप छतों की शाम कहाँ 

दालानों की धूप छतों की शाम कहाँ घर के बाहर घर जैसा आराम कहाँ बाज़ारों की चहल-पहल से रोशन है इन आँखों में मंदिर जैसी शाम कहाँ मैं उसको पहचान…

किसे ख़बर थी तुझे इस तरह सजाऊंगा

किसे ख़बर थी तुझे इस तरह सजाऊंगा ज़माना देखेगा और मैं न देख पाऊंगा हयातों मौत फ़िराक़ों विसाल सब यकजा मैं एक रात में कितने दीये जलाऊंगा पला बढ़ा हूँ…

कोई लश्कर है कि बढ़ते हुए ग़म आते हैं 

कोई लश्कर है कि बढ़ते हुए ग़म आते हैं शाम के साए बहुत तेज़ क़दम आते हैं दिल वो दरवेश है जो आँख उठाता ही नहीं इसके दरवाजे पे सौ…

जहाँ पेड़ पर चार दाने लगे

जहाँ पेड़ पर चार दाने लगे हज़ारों तरफ़ से निशाने लगे हुई शाम यादों के इक गाँव में परिंदे उदासी के आने लगे घड़ी दो घड़ी मुझको पलकों पे रख…