Tag Archives: aankhe

मूल के मूल में आ

कब तलक उलटा चलेगा, अब सीधे आ छोड़ कुफ़्र की राह, अब चल दीन की राह इस डंक में देख दवा, और डंक खा अपनी ख़ाहिश के मूल के मूल…

अज्मतें सब तिरी ख़ुदाई की

अज्मतें सब तिरी ख़ुदाई की हैसियत क्या मिरी इकाई की मेरे होंठों के फूल सूख गए तुमने क्या मुझसे बेवफाई की सब मिरे हाथ पाँव लफ्ज़ों के और आँखें भी…

रेत भरी है इन आँखों में आँसू से तुम धो लेना 

रेत भरी है इन आँखों में आँसू से तुम धो लेना कोई सूखा पेड़ मिले तो उससे लिपट के रो लेना इसके बाद बहुत तन्हा हो जैसे जंगल का रास्ता…

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जायेगा

अगर तलाश करूँ कोई मिल ही जायेगा मगर तुम्हारी तरह कौन मुझे चाहेगा तुम्हें ज़रूर कोई चाहतों से देखेगा मगर वो आँखें हमारी कहाँ से लायेगा ना जाने कब तेरे…

अत्तन मैं क्युं आई सां

अत्तन मैं क्युं आई सां, मेरी तन्द न पईआ काय । आउंद्यां उठि खेडनि लगी, चरखा छड्या चाय ।। कत्तन कारन गोढ़े आंदे, गया बलेदा खाय ।1। होरनां दियां अड़ी…

क्यों चुराते हो देखकर आँखें

क्यों चुराते हो देखकर आँखें कर चुकीं मेरे दिल में घर आँखें ज़ौफ़ से कुछ नज़र नहीं आता कर रही हैं डगर-डगर आँखें चश्मे-नरगिस को देख लें फिर हम तुम…

कहाँ थे रात को हमसे ज़रा निगाह मिले

कहाँ थे रात को हमसे ज़रा निगाह मिले तलाश में हो कि झूठा कोई गवाह मिले तेरा गुरूर समाया है इस क़दर दिल में निगाह भी न मिलाऊं तो बादशाह…

इस अदा से वो वफ़ा करते हैं

इस अदा से वो वफ़ा करते हैं कोई जाने कि वफ़ा करते हैं हमको छोड़ोगे तो पछताओगे हँसने वालों से हँसा करते हैं ये बताता नहीं कोई मुझको दिल जो…

न तो कुछ कुफ़्र है, न दीं कुछ है

न तो कुछ कुफ़्र है, न दीं कुछ है है अगर कुछ, तेरा यकीं कुछ है है मुहब्बत जो हमनशीं कुछ है और इसके सिवा नहीं कुछ है दैरो-काबा में…

किस-किस अदा से तूने जलवा दिखा के मारा

किस-किस अदा से तूने जलवा दिखा के मारा आज़ाद हो चुके थे, बन्दा बना के मारा अव्वल बना के पुतला, पुतले में जान डाली फिर उसको ख़ुद क़ज़ा की सूरत में आके…

आँखें मुझे तल्वों से वो मलने नहीं देते

आँखें मुझे तल्वों से वो मलने नहीं देते अरमान मेरे दिल का निकलने नहीं देते ख़ातिर से तेरी याद को टलने नहीं देते सच है कि हमीं दिल को संभलने…

हस्ती अपनी हुबाब की सी है ।

हस्ती अपनी हुबाब की सी है । ये नुमाइश सराब की सी है ।। नाज़ुकी उस के लब की क्या कहिए, हर एक पंखुड़ी गुलाब की सी है । चश्म-ए-दिल…